Poem

स्नेह सन्देश – कनिका खत्री

वो सुबह बड़ी खुशनमा होती है जिस रात सपने मे तू आती है माँ कभी सपनो में जब माथा सेहला जाती है .. जीने की राह दिखा जाती  है.. दिल खुश हो जाता है ..एक नया सहस सा आ जाता  है .. ऐसा एक दिन नहीं गया जब तू याद ना आये  माँ बदले है …

स्नेह सन्देश – कनिका खत्री Read More »

error: Content is protected !!